Child Psychology and Pedagogy

शिक्षा में उपयोगी विभिन्न संप्रेषण उपकरण

Implications of Communication Devices || विभिन्न संप्रेषण उपकरणों का शिक्षा में उपयोग || शिक्षा में उपयोगी विभिन्न संप्रेषण उपकरण संप्रेषण में विभिन्न उपकरणों का उपयोग किया जाता है। इन उपकरणों के उपयोग से अधिगम प्रक्रिया अधिक प्रभावशाली बन जाती है। आज के युग में कंप्यूटर सहायक अधिगम पर जोर दिया जाता है। विद्यार्थी इंटरनेट के …

शिक्षा में उपयोगी विभिन्न संप्रेषण उपकरण Read More »

दक्षता आधारित शिक्षण (Efficiency Based Teaching)

दक्षता आधारित शिक्षण || Efficiency Based Teaching || dakshta adharit shikshan || दक्षता आधारित शिक्षण क्या है? दक्षता आधारित शिक्षण कि आवश्यकता :- वर्तमान युग प्रतिस्पर्धा एवं प्रतियोगिता का युग है। बालक को ज्ञान प्राप्ति के साथ ही साथ समाज में विशिष्ट स्थान बनाने के लिए किसी क्षेत्र में विशिष्ट दक्षताएं प्राप्त करना अति आवश्यक …

दक्षता आधारित शिक्षण (Efficiency Based Teaching) Read More »

सहभागी शिक्षण

सहभागी शिक्षण सहभागी शिक्षण क्या है? सहभागी शिक्षण की आवश्यकता, सहभागी शिक्षण का अर्थ, सहभागी शिक्षण इन हिंदी प्राचीन काल से ही शिक्षा में शिक्षण प्रक्रिया का संबंध दो पक्षों से रहा है। इसमें प्रथम पक्ष शिक्षा प्रदान करने वाला होता है जिसे गुरु के नाम से जानते हैं। वर्तमान में उसको शिक्षक के नाम …

सहभागी शिक्षण Read More »

वयःसन्धि काल (Age of Puberty)

वयःसन्धि काल क्या है? || Age of Puberty || What is an Age of Puberty in Childrens ? वयःसन्धि काल (Age of Puberty) मनुष्य जीवन के बाल्यावस्था तथा किशोरावस्था के बीच का समय होता है। शारीरिक विकास की दृष्टि से यह अवस्था काफ़ी महत्वपूर्ण मानी जाती है। प्यूबर्टी एक ऐसा पड़ाव है जिसमें एक बच्चे …

वयःसन्धि काल (Age of Puberty) Read More »

बुनियादी शिक्षा पद्धति (Basic Education System)

बुनियादी शिक्षा पद्धति (Basic Education System)बुनियादी शिक्षा पद्धति के जन्मदाता श्री मोहनदास करमचंद गांधी थे। इनका जन्म 2 अक्टूबर 1869 में गुजरात के पोरबंदर शहर में हुआ था। इनके पिता का नाम करमचंद गांधी तथा इनके दादा का नाम उत्तमचंद गांधी था। महाराष्ट्र में वर्धा में 1935 में सेवाग्राम आश्रम की स्थापना की जहां पर …

बुनियादी शिक्षा पद्धति (Basic Education System) Read More »

बहुकक्षा शिक्षण

बहुकक्षा शिक्षणवर्तमान समय में प्राथमिक शिक्षा के क्षेत्र में निरंतर जनसंख्या वृद्धि के कारण विद्यालयों में छात्र संख्या तो निरंतर तेजी से बढ़ रही है परंतु उस अनुपात में शिक्षकों की संख्या अभी भी बहुत कम है। अनेक विद्यालय ऐसे हैं जहां एक ही अध्यापक कक्षा एक से पांच तक के बच्चों को पढ़ा रहा …

बहुकक्षा शिक्षण Read More »

विकलांग बच्चों की राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2006

विकलांग बच्चों की राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2006 (National Education Policy For Person with Disability -2006) यह नीति 10 फरवरी 2006 से लागू की गई है। इसको सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण मंत्रालय (Ministry of Social Justice and Empowerment ) बनाता है। वह स्कूलों में लागू करता है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय एक सहायक एजेंसी की भूमिका …

विकलांग बच्चों की राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2006 Read More »

एडीएचडी (ध्यानाभाव एवं अतिसक्रियता विकार) – ADHD in Hindi

ध्यानाभाव एवं अतिसक्रियता विकार (ADHD) क्या है? ध्यान अभाव अति क्रियाशीलता विकृति || Attention Deficit Hyperactivity Disorder || ADHD) || एडीएचडी || ध्यानाभाव एवं अतिसक्रियता विकार || इसे सामान्य भाषा में ADHD कहते हैं। इन बच्चों मै आवेगो के नियंत्रण की समस्या होती है। इनका ध्यान केंद्रित नहीं हो पाता। इस कारण कक्षा में अनुशासनहीनता …

एडीएचडी (ध्यानाभाव एवं अतिसक्रियता विकार) – ADHD in Hindi Read More »

जीवन कौशल प्रबंधन एवं अभिवृत्ति पार्ट – 1

जीवन कौशल प्रबंधन एवं अभिवृत्ति पार्ट – 1 प्रश्न 1:- भारत में व्यवसायिक शिक्षा कब शुरू हुई?(A) 1986 ईस्वी में(B) 1987 ईस्वी में(C) 1990 ईस्वी में(D) 1985 ईस्वी मेंउत्तर :- भारत व्यवसायिक शिक्षा की शुरुआत 1986 ईस्वी से मानी जाती है। प्रश्न 2 :- अभिप्रेरणा और अधिगम के बारे में निम्नलिखित में से कौन-सा एक …

जीवन कौशल प्रबंधन एवं अभिवृत्ति पार्ट – 1 Read More »

कार्यशाला प्रविधि (Workshop Technique)

कार्यशाला प्रविधि (Workshop Technique) क्या होती है? कार्यशाला क्या है ? कार्यशाला एक निश्चित विषय पर परिचर्चा का प्रायोगिक कार्य होता है। जिसमें सभी प्रतिभागी सदस्य अपने ज्ञान अनुभवों व कौशलों के पारस्परिक आदान-प्रदान के द्वारा विषय के बारे में सीखते हैं। शिक्षक अपने शिक्षण में सफलता पाने के लिए विभिन्न विधियों / प्रविधियों का …

कार्यशाला प्रविधि (Workshop Technique) Read More »