मनोविज्ञान का इतिहास (History of Psychology)

मनोविज्ञान का इतिहास | Manovigyan kaal ka vibhajan | History of Psychology | मनोविज्ञान का इतिहास काल विभाजन

मनोविज्ञान शब्द की उत्पत्ति दो ग्रीक शब्द Psyche तथा Logous से हुई हैं। ग्रीक भाषा में Psyche शब्द का अर्थ आत्मा तथा Logous शब्द का अर्थ शास्त्र या अध्ययन होता है। इस प्रकार प्रारंभ में मनोविज्ञान को आत्मा का अध्ययन (Study of Soul) करने वाला विज्ञान कहा जाता था।

मनोविज्ञान का इतिहास काल विभाजन :-

History of Psychology has been classified into 2 Periods

  • पूर्व वैज्ञानिक काल (Pre-Scientific Period)
  • वैज्ञानिक काल (Scientific Period)

पूर्व वैज्ञानिक काल (Pre-Scientific Period) :-

  • इस काल की शुरुआत ग्रीक दार्शनिकों (Greek Philosopher) जैसे प्लेटो, अरस्तु तथा हिप्पोक्रेट्स आदि के अध्ययनों एवं विचारों से प्रारंभ होकर 19वीं शताब्दी के उत्तरार्ध तक माना जाता है।
  • शरीर गठन प्रकार (Theory of Constitutional types) हिप्पोक्रेट्स ने इस सिद्धांत का प्रतिपादन किया था।
  • शेल्डन ने हिप्पोक्रेट्स के विचारों से प्रभावित होकर सेमोटोटाइप सिद्धांत (Samototype Theory) दिया।
  • ग्रीक दार्शनिक अगस्टाइन तथा थॉमस का विचार था कि मन तथा शरीर दोनों दो चीजें हैं और इन दोनों में कोई संबंध नहीं है।
  • मन, स्पिनोज़ा (Spinoza) तथा लिबनीज के अनुसार मन और शरीर दोनों ही अंतर संबंधित है। दोनों ही एक दूसरे को प्रभावित करते हैं।
  • लोक (Locke) का मत था कि व्यक्ति जन्म के समय टेबुला रासा (Tabula Rasa) होता है (मस्तिष्क कोरे कागज के समान होता है) जिसमें बाद में नए-नए विचार उत्पन्न होते हैं।
  • दकार्ते के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति में जन्म के समय से ही कुछ विशेष विचार होते हैं। इस प्रकार इन सभी विचारों से एक नए समप्रत्य का जन्म हुआ जिसे मूल प्रवृत्ति कहते हैं। इसके अनुसार प्रत्येक व्यक्ति का व्यवहार इन मूल प्रवृत्तियों से प्रभावित होता है।
  • रूसो का कहना था कि मनुष्य जन्म से अच्छे स्वभाव का होता है परंतु समाज के कटु अनुभव के प्रभाव से प्रभावित होता है। तथा उसके स्वभाव को बुरा बना देती है।
  • स्पेंसर का मत था कि मनुष्य में जन्म से ही स्वार्थ का आक्रमण शीलता आदि गुण मौजूद होते हैं, जो समाज द्वारा नियंत्रित कर दिए जाते हैं। फलस्वरूप व्यक्ति का स्वभाव असमाजिक से समाजिक हो जाता है।

वैज्ञानिक काल (Scientific Period):-

साइंटिफिक पीरियड (Scientific Period) की शुरुआत 1879 से होती है । 1879 में विलियम वुंट जर्मनी के लिपजिंग यूनिवर्सिटी में संसार की पहली मनोविज्ञान प्रयोगशाला खोली थी। विलियम वूंट सचेतन मन के अध्ययन में रुचि रखते थे और मन के अवयवों अथवा निर्माण की इकाइयों का विश्लेषण करना चाहते थे। उनके समय काल में मनोवैज्ञानिक आत्मनिरीक्षण द्वारा मन की संरचना का विश्लेषण कर रहे थे, इसलिए इन्हें संरचनावादी कहा गया।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *