अंतरराष्ट्रीय योगा दिवस 2020

World Yoga Day 2020, विश्व योगा दिवस 2020, International yoga day 2020, योगा दिवस , राष्ट्रीय युवा दिवस 2020, अंतरराष्ट्रीय योगा दिवस 2020

इंटरनेशनल योगा डे 2020, विश्व योगा दिवस 2020, योगा दिवस कब मनाया जाता है
इंटरनेशनल योगा डे 2020, विश्व योगा दिवस 2020, योगा दिवस कब मनाया जाता है

कोरोनावायरस की वजह से वर्ष 2020 का अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2020 को डिजिटल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मनाया जाएगा । इस अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2020 की थीम “ घर पर योग और परिवार के साथ योग
जैसा कि हम सभी जानते हैं अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को प्रत्येक वर्ष पूरे विश्व में मनाया जाता है। योग मूलतः भारतीय दर्शन है और भारत की पहल से ही योग दिवस संपूर्ण विश्व में मनाया जाता है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा 2014 में संयुक्त राष्ट्र की महासभा में 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाने का प्रस्ताव रखा था। प्रधानमंत्री मोदी के इस प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए संयुक्त राष्ट्र ने 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप में मनाने की आधिकारिक घोषणा की थी।

आखिर 21 जून को विश्व योग दिवस क्यों मनाया जाता है?

21 जून को ही योग दिवस क्यों मनाया जाता है। इस सवाल का जवाब ज्योतिष विज्ञान में मिलता है। ज्योतिष विज्ञान के अनुसार 21 जून का दिन उत्तरी गोलार्द्ध का सबसे लंबा दिन है, जिसे ग्रीष्म संक्रांति भी कह सकते हैं। भारतीय संस्कृति के दृष्टिकोण से, ग्रीष्म संक्रांति के बाद सूर्य दक्षिणायन हो जाता है। ज्योतिष विज्ञान के अनुसार, सूर्य के दक्षिणायन का समय आध्यात्मिक सिद्धियां प्राप्त करने में बहुत लाभकारी माना जाता है। इसी कारण 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है।

योग क्या है ? तथा योग शब्द का अर्थ क्या होता है?

योग का उद्भव भारत से ही माना जाता है। भारत में योग का इतिहास लगभग 2000 वर्ष पुराना बताया गया है। भार‍त में स्‍वामी विवेकानंद ने योग की शुरुआत बहुत पहले कर दी थी।

योग शब्द का अर्थ होता है जोड़ अथवा समाधि। संस्कृत शब्द योग का शाब्दिक अर्थ ‘योक’ है। अतः योग को भगवान की सार्वभौमिक भावना के साथ व्यक्तिगत आत्मा को एकजुट करने के एक साधन के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। महर्षि पतंजलि के अनुसार, योग मन के संशोधनों का दमन है। पतंजलि ने योग के समस्त विद्या को 8 अंगों में बांटा है इसे अष्टांग योग कहते हैं।

अष्टांग योग के प्रकार निम्नलिखित हैं:-

  • यम
  • नियम
  • आसान
  • प्राणायाम
  • प्रत्याहार
  • धारणा
  • ध्यान
  • समाधि