Meaning of Psychology (मनोविज्ञान का अर्थ)

मनोविज्ञान का अर्थ (Meaning of Psychology)

मनोविज्ञान शब्द का अंग्रेजी रूपांतरण साइकोलॉजी (Psychology) दो ग्रीक शब्दों के मिलने से बना है। अगर हम साइकोलॉजी (Psycholgy) शब्द को विखंडित करें तो यह ‘Psyche’ तथा ‘Logous‘ में खंडित हो जाएगा। यहां ‘Psyche’ का अर्थ होता है आत्मा (Soul) तथा ‘Logus’ का अर्थ होता है अध्ययन या विवेचन करना । इस प्रकार साइकोलॉजी शब्द का अर्थ (Meaning of Psychology) हुआ आत्मा के संबंध में अध्ययन करने वाला एक विषय। अरस्तू तथा प्लेटो ने मनोविज्ञान को आत्मा के बारे में अध्ययन करने वाला विषय माना था परंतु प्राचीन दार्शनिक ओ द्वारा दी गई है।

17 वी शताब्दी तथा 18 वीं शताब्दी के दार्शनिकों ने जिनमें हॉब्स, लॉक, कांट तथा लीबिनिज आदि का नाम उल्लेखनीय है । इन्होंने ‘Psyche’ शब्द का अर्थ मन बताया है और कहा है कि मनोविज्ञान की विषय वस्तु मन होती है। इस प्रकार मनोविज्ञान मन का विज्ञान माना गया। मनोविज्ञान मन का विज्ञान है यह परिभाषा लगभग 1872 ईस्वी तक सर्वमान्य बनी रही और मनोविज्ञान उस समय दर्शनशास्त्र की एक शाखा थी। तथा मनोविज्ञान मन कि एक विषयवस्तु बनी रही।
1879 ईस्वी में विल्हेम वुंट ने जर्मनी के लिपजिग विश्वविद्यालय में मनोविज्ञान की सबसे पहली प्रयोगशाला स्थापित की थी। इस प्रकार मनोविज्ञान दर्शनशास्त्र की एक शाखा से अब यह प्रयोगात्मक की ओर होता गया। इस प्रकार से मनोविज्ञान की विषय वस्तु ‘मन या आत्मा’ से हटकर अब मानसिक क्रिया या चेतन अनुभूति हो गई । इस परिभाषा को मानने वाले मनोवैज्ञानिकों को संरचनावादी कहा गया । जिसमें टिचनर तथा विल्हेम वुंट प्रमुख माने जाते हैं।
इन मनोवैज्ञानिकों के अनुसार मनोविज्ञान चेतन अनुभूति या तत्कालिक अनुभूति के अध्ययन का विज्ञान है। संरचना वादियों की परिभाषा में त्रुटि पाए जाने पर मनोविज्ञान की दूसरी परिभाषा दी गई जो की व्यवहारवादियों की थी। व्यवहारवादियों में जे बी वॉटसन का नाम प्रमुख है। इन लोगों ने मनोविज्ञान को व्यवहार का एक वस्तुपरक विज्ञान माना है । इस परिभाषा से स्पष्ट होता है कि इसमें चेतन अनुभूति को मनोविज्ञान की विषय वस्तु से अलग कर दिया गया तथा उसकी जगह व्यवहार को रखा गया । जिस का स्वरूप अधिक वस्तुनिष्ठ होता है । क्योंकि इसे देखा या सुना जा सकता है।

निष्कर्ष यह कहा जा सकता है कि आधुनिक समय में मनोविज्ञान का अर्थ एक ऐसे विज्ञान से लिया जाता है। जिसमें वह विचारों एवं मानसिक प्रक्रियाओं दोनों का अध्ययन किया जाता है। सर्वप्रथम मनोविज्ञान आत्मा का विज्ञान माना जाता था उसके बाद संरचना वादियो ने इसे चेतना का विज्ञान माना। तथा बाद में व्यवहारवादी होने मनोविज्ञान को व्यवहार का विज्ञान माना । आधुनिक समय में मनोविज्ञान को व्यवहार का तथा मानसिक प्रक्रियाओं का वैज्ञानिक अध्ययन बताया है

2 thoughts on “Meaning of Psychology (मनोविज्ञान का अर्थ)”

  1. Pingback: भारत में मनोविज्ञान का विकास - CTETPoint

  2. Pingback: मनोविज्ञान का इतिहास (History of Psychology) - CTETPoint

Comments are closed.