NCERT EVS For CTET ( पर्यावरण अध्ययन for CTET )

NCERT EVS For CTET ( पर्यावरण अध्ययन for CTET )

  • ‘ लिंग-हू-फेन ‘ हांगकांग का एक पकवान है जो सांप के मांस से बनाया जाता है l ( NCERT EVS For CTET )
  • ‘ टेपिकोवा ‘ केरल में जमीन के नीच उगाया जाता हैं
  • लूई ब्रैल फ्रांस के निवासी थे उन्होंने ब्रेल लिपि की खोज की थी l ब्रेल लिपि 6 (डॉट ) बिंदुओं पर आधारित है l
  • असम में बहुत बारिश के कारण घर जमीन से 10 से 12 फीट ऊंची बने होते हैं l इन्हें बांस के खंभों पर बनाया जाता है l ( NCERT EVS For CTET )
  • मनाली में पत्थर तथा लकड़ी के घर बने होते हैं l
  • राजस्थान में मिट्टी के घर होते हैं l दीवार मोटी और छत कटीली झाड़ियों से बनी होती है l
  • जम्मू कश्मीर में चाय को ‘ कहवा ‘ बोलते हैं इसमें बादाम आदि डाला जाता है l
  • ‘ वल्लम ‘ लकड़ी से बनी छोटी नाव को कहते हैं या केरल में चलती है l
  • एक हाथी दिन में 100 किलोग्राम से ज्यादा पत्ती और झाड़ियां खा लेता है l (NCERT EVS For CTET )
  • हाथियों के झुंड में केवल हथेनियां होती है l एक झुण्ड में 10 से 12 हाथनिया और उनके छोटे बच्चे होते हैं l
  • हाथी दिन भर में केवल 2 से 4 घंटा ही सोता है l
  • 10 से 15 साल तक ही हाथी झुंड में रहते हैं फिर वह झुंड छोड़ देते हैं और अकेले रहने लगते हैं l
  • खेजड़ी के पेड़ राजस्थान के जोधपुर के खेजड़ली गांव में मिलते हैं l (NCERT EVS For CTET)
  • यहां के लोग बिश्नोई कहलाते हैं l यहां शिकार व पेड़ काटना निषेध है l
  • खेजड़ी का पेड़ यह रेगिस्तानी इलाकों में पाया जाता है l इसे ज्यादा पानी की आवश्यकता नहीं होती, इसकी छाल से दवाई आदि बनाई जाती है l
  • खेजड़ी पेड़ की लकड़ी को कीड़ा भी नहीं लगता इसलिए इसकी लकड़ी का प्रयोग फर्नीचर आदि बनाने में किया जाता है l (NCERT EVS For CTET)
  • खेजड़ी पेड़ की फलियों की सब्जी बनाई जाती है l
  • सभी चीटियों को काम बटा होता है l रानी चीटियां अंडे देती है, और सिपाही चीटियां बिल का ध्यान रखती है l
  • मजदूर चींटी बिल तक भोजन ढूंढ कर लाती है l
  • मधुमक्खियां, दीमक और ततैया भी इसी तरह समूह में कार्य करते हैं l
  • अक्टूबर से दिसंबर तक का समय मधुमक्खियों के अंडे देने का होता है अतः यह समय मधुमक्खी के पालन के लिए उचित समय माना जाता है l
  • गोवा से केरल के रेल रास्ते में 92 सुरंग और 2000 पुल पड़ते हैं l
  • मलयालम में ‘ वालीयम्मा ‘ मां की बड़ी बहन को और ‘ अम्मूमा ‘ नानी को कहते हैं l
  • गांधीधाम अहमदाबाद में और वलसाड गुजरात में तथा कोझीकड केरल में स्थित है ( NCERT EVS For CTET )
  • कर्णम मल्लेश्वरी एक वेटलिफ्टर है l यह आंध्र प्रदेश की रहने वाली है l यह 130 किलोग्राम वजन उठाती है l और भारत के बाहर 29 मेडल जीत चुकी है l
  • उत्तर प्रदेश में, कचनार के फूलों से, केरल में केले के फूलों से और महाराष्ट्र में सहजन के फूलों से सब्जी बनाई जाती है l
  • गुलदावरी और जीनिया के फूलों से रंग बनते हैं जिससे कपड़े रंगे जाते हैं l
  • बिहार में मधुबनी नाम का एक जिला है l वहां पर त्योहारों के दिन घर की दीवारों पर चित्र बनाए जाते हैं l यह चित्र पिसे हुए चावल में रंग घोलकर बनाए जाते हैं l
  • उत्तर प्रदेश का कन्नौज जिला इत्र के लिए मशहूर हैl
  • मिट्टी में गोबर मिलाकर जमीन पर लिपाई करने से मिट्टी में कीड़ा नहीं लगता l तथा कीट पतंग दूर रहते हैं l
  • नीम और कीकर की लकड़ी ऊपर दीमक नहीं लगते तथा इनका प्रयोग फर्नीचर आदि बनाने में किया जाता है l
  • गाजीखान यह स्थान पाकिस्तान में स्थित है l सोहना गांव हरियाणा में स्थित है, जबकि ‘ वेलबनी’का गांव कर्नाटक में स्थित है l
  • विजू भाई बधेका एक लेखक है, जो कि गुजरात से संबंधित है l वह बच्चों की स्तर की मजेदार कहानियां वह पत्र लिखते थे l

आइए जाने पक्षिओ के बारे मे किस मे है क्या खाशियत :-

  • कल चिड़ी ( इंडियन रोबिन ) पत्थरों के बीच घोंसला बनाती है l घोसला घास से बना होता है l और इसके ऊपर पौधों की नाजुक टहनी, जड़े, उन और बाल रहता है l
  • कौवा के घोसले में लोहे की तार और लकड़ी की शाखाएं जैसी चीज पाई जाती है l
  • कोयल अपना घोंसला नहीं बनाती है कव्वे की घोसले में अंडा देती है l
  • ‘ फाख्ता ‘ कैक्टस के काटो के बेच या मेंहदी की मेढ़ में घोंसला बनती हैं l
  • गौरय्या कहीं भी घोंसला बना लेती हैं – अलमारी के ऊपर, आईने के पीछे आदि l कबूतर भी ऐसे ही अपना घोंसला बनाते हैं l
  • बसंत गौरी पेड़ के तने में छेद बनाकर उसमे अंडे रखती हैं l
  • दर्जिन चिड़िया, अपनी नुकीले चोंच से पत्तों को सी लेती he और उसके बीच की बनी थैली को अंडे देने के लिए तैयारी करती हैं l
  • शक़्कर खोरा किसी छोटे पेड़ या झाी की डाली पर अपना लटकता घोंसला बनाते हैं l
  • घोंसला बाल, रुई, पेड़ की छाल, कपड़ो के टुकड़ो आदि से बना होता हैं l
  • ‘ वीवर ‘ पक्षिओ मे सभी नर वीवर अपने अपने घोसले बनाते हैं l मादा वीवर उन सभी घोसलो को देखती हैं, उनमे से जो अच्छा लगता हैं l उसमे ही वह अंडे देती हैं l

आइए जाने जानवरो के बारे मे किस मे है क्या खाशियत :-

  • गाय के आगे के दाँत छोटे होते हैं, पत्ते को काटने के लिए, घास चबाने के लिए पीछे के दाँत चपटे होते हैं l
  • बिल्ली के दाँत नुकीले होते हैं, जो मांस फाड़ने ke kaam आते हैं l
  • सांप के दांत होते तो नुकीले हैं, पर वह अपने शिकार को चबाता नहीं हैं, बल्कि निगल जाता हैं l
  • गिलहरी के दाँत हमेशा बढ़ते रहते हैं, दांतो से काटना और कुतरने के कारण उनके दाँत घिसते रहते हैं l
  • नल्लमडा, आंध्रप्रदेश में हैं l बाजार गांव, महाराष्ट्र में हैं l
  • कफ परेड, मुंबई मे एक जगह का नाम हैं
  • ऑस्ट्रेलिया में एक पेड़ पाया जाता हैं, ‘ रेगिस्तानी – ओक ‘ यह बहुत लम्बा होता हैं और इसके तने के अंदर पानी रहता हैं l
  • बिहू, यह त्योहार, असम me चावल की फसल कटने पर मनाया जाता हैं l
  • इस त्योहार पर बिहू नृत्य भी होता हैं l
  • बोरा और चेवा चावल के दो प्रकार है जो असम में खाया जाता है l
  • ‘ मुक्तापुर ‘ गांव आंध्र प्रदेश के पोचमपल्ली जिले में स्थित हैं l
  • पोचमपल्ली जिले में ज्यादातर परिवार बुनकर है l इस बुराई को पोचमपल्ली नाम से भी जाना जाता है l
  • मलयालम में ‘चिटप्पन ‘ चाचा को और ‘ कुजन्म्मा ‘ चाची को कहते हैं l
  • अबू धाबी में रुपए को दिरहम बोलते हैंl
  • चीटियां सूंघकर एक दूसरे के पीछे चलती है l मच्छर हमारे पैरों के तलवे की गंध और हमारे शरीर की गर्मी से हमें ढूंढ लेते हैं l
  • सांप के बाहरी कान नहीं होते जमीन पर हुए कंपन को वह महसूस कर पाते हैं l
  • टाइगर अंधेरे में हम से 6 गुना बेहतर देख सकता है l टाइगर कि मूछे हवा में हुए कंपन को भाप लेती है l
  • टाइगर का गुर्राना ( Roaring ) 3 किलोमीटर दूर तक भी सुना जा सकता है l
  • जानवर हर चीज को सफेद और काली ही देख पाते हैं l
  • ‘ स्लॉथ ‘:- यह भालू जैसा दिखता है l यह दिन में करीब 17 घंटे पेड़ों से उल्टा लटक कर सोता है l
  • स्लॉथ जिस पेड़ पर रहते हैं उसी पेड़ के पत्ते खाकर जीवन व्यापन करते हैं l
  • जब वे अपने पेड़ क सभी पत्ते खा लेते हैं तब वे पास के दूसरे पेड़ पर जाते हैं l
  • स्लॉथ अपनी पूरी जिंदगी (जो कि 40 वर्ष की होती है ) मुश्किल से 8 पेड़ों पर ही घूम पाते हैं l
  • उत्तराखंड का जिम कार्बेट नेशनल पार्क और राजस्थान के भरतपुर जिले में घना पक्षी विहार इन जगहों पर शिकार करना वर्जित है l
  • सपेरों की जाति को कालबेलिया कहा जाता है l
  • नाग गुंफन यह रंगोली दीवारों को सजाने के लिए सौराष्ट्र, गुजरात और दक्षिण भारत में प्रयोग की जाती है l
  • हमारे देश में पाए जाने वाले सांपो में केवल चार प्रकार के ही सांप जहरीले होते हैं :- नाग, करैत , दुबोइया तथा अफई आदि
  • सांप जब काटता है तो दो खोखले जहर वाले दांतो से उस व्यक्ति के शरीर में जहर चला जाता है l उस व्यक्ति को तुरंत जहर के असर को कम करने वाली दवाई ( यानी सीरम ) दी जाती है l यह दवाई (सिरम) सांप के जहर से ही बनाई जाती है l
  • ‘ नेपेंथिस ‘ यह पौधा ऑस्ट्रेलिया, इंडोनेशिया और भारत के मेघालय राज्य में पाया जाता है l यह पौधा कीड़े मकोड़े और छोटे जीवो को शिकार करता है ताकि अपनी नाइट्रोजन की आवश्यकता को पूरा कर सकें l
  • स्विट्जरलैंड के जॉर्ज मैस्टर्ल ने 1948 में वेल्क्रो बनाया था l
  • मैस्टर्ल का प्रयोग जूतों व सैंडल पर चिपकाने हेतु किया जाता है l ( NCERT EVS For CTET)
  • मिर्ची को पुर्तगाल देश के व्यापारी दक्षिण अमेरिका से भारत लाए थे l
  • भिंडी अफ्रीका से तथा यूरोप से गोभी और मटर, तथा चीन से सोयाबीन लाई गई थी l
  • अल बिरूनी उज्बेकिस्तान से भारत आया था l
  • घडसीसर यह तालाब जैसलमेर के राजा ( घड़सी ) जी ने बनवाया था l
  • मृत सागर ( DEATH SEA) दुनिया का सबसे नमकीन सागर है l लगभग 1 लीटर पानी में 300 ग्राम नमक पाया जाता है l (NCERT EVS For CTET )
  • सिनकोना पेड़ की छाल से मलेरिया की दवाई बनाई जाती है l पहले तो लोग छाल को उबाल कर इस्तेमाल करते थे l
  • एनीमिया यह रोग हीमोग्लोबिन या आयरन की कमी से होता है l इस रोग के उपचार हेतु गुड़, आंवला और हरी पत्तेदार सब्जियां जरूर खाना चाहिए l
  • रोनाल्डो रोश ने बताया कि मलेरिया मच्छर से फैलता है l यह भारतीय मूल के वैज्ञानिक थे l
  • मिजोरम राज्य में ( यह भारत का उत्तर पूर्वी राज्य है ) में मिज़ो भाषा बोली जाती है l
  • बछेंद्री पाल पहली भारतीय महिला थी, जो माउंट एवरेस्ट पर चढ़ी थी l संसार की पांचवी महिला बन गई थी जो माउंट एवरेस्ट पर चढ़ी थी l माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई 8848 मीटर है l माउंट एवरेस्ट विश्व की सबसे ऊंची चोटी है जो कि हिमालय नेपाल में स्थित है नेपाल में इसे सागर माथा के नाम से जाना जाता हैं l (NCERT EVS For CTET )
  • बछेंद्री पाल ने 23 मई 1984 को 1:07 पर माउंट एवरेस्ट पर पर चढ़कर यह कीर्तिमान हासिल किया थाl
  • गोलकुंडा के किले में सन 1518 से 1687 तक यहां कुतुब शाही सुल्तानों ने एक के बाद एक राज किया थाl
  • ‘ हाउ वी फाउंड द अर्थ इज राउंड ‘ यह पुस्तक लोंगमैन लिखी है l इस पुस्तक में बताया गया है कि सदियों से अलग-अलग संस्कृतियों में इंसानों ने पृथ्वी के बारे में क्या क्या सोचा है l
  • नील आर्मस्ट्रांग चांद पर उतरने वाले पहले व्यक्ति थे वह चांद पर 1969 में गए थे
  • ‘ लिंग-हू-फेन ‘ हांगकांग का एक पकवान है जो सांप के मांस से बनाया जाता है
  • ‘ टेपिकोवा ‘ केरल में जमीन के नीच उगाया जाता हैं
  • लूई ब्रैल फ्रांस के निवासी थे उन्होंने ब्रेल लिपि की खोज की थी l ब्रेल लिपि 6 (डॉट ) बिंदुओं पर आधारित है
  • असम में बहुत बारिश के कारण घर जमीन से 10 से 12 फीट ऊंची बने होते हैं l इन्हें बांस के खंभों पर बनाया जाता है l (NCERT EVS For CTET
  • मनाली में पत्थर तथा लकड़ी के घर बने होते हैं l
  • राजस्थान में मिट्टी के घर होते हैं l दीवार मोटी और छत कटीली झाड़ियों से बनी होती है l
  • जम्मू कश्मीर में चाय को ‘ कहवा ‘ बोलते हैं इसमें बादाम आदि डाला जाता है l
  • ‘ वल्लम ‘ लकड़ी से बनी छोटी नाव को कहते हैं या केरल में चलती है l
  • एक हाथी दिन में 100 किलोग्राम से ज्यादा पत्ती और झाड़ियां खा लेता है l
  • हाथियों के झुंड में केवल हथेनियां होती है l एक झुण्ड में 10 से 12 हाथनिया और उनके छोटे बच्चे होते हैं l
  • हाथी दिन भर में केवल 2 से 4 घंटा ही सोता है l
  • 10 से 15 साल तक ही हाथी झुंड में रहते हैं फिर वह झुंड छोड़ देते हैं और अकेले रहने लगते हैं l
  • खेजड़ी के पेड़ राजस्थान के जोधपुर के खेजड़ली गांव में मिलते हैं l (NCERT EVS For CTET)
  • यहां के लोग बिश्नोई कहलाते हैं l यहां शिकार व पेड़ काटना निषेध है l
  • खेजड़ी का पेड़ यह रेगिस्तानी इलाकों में पाया जाता है l इसे ज्यादा पानी की आवश्यकता नहीं होती, इसकी छाल से दवाई आदि बनाई जाती है l
  • खेजड़ी पेड़ की लकड़ी को कीड़ा भी नहीं लगता इसलिए इसकी लकड़ी का प्रयोग फर्नीचर आदि बनाने में किया जाता है l ( NCERT EVS For CTET)
  • खेजड़ी पेड़ की फलियों की सब्जी बनाई जाती है l
  • सभी चीटियों को काम बटा होता है l रानी चीटियां अंडे देती है, और सिपाही चीटियां बिल का ध्यान रखती है l
  • मजदूर चींटी बिल तक भोजन ढूंढ कर लाती है l
  • मधुमक्खियां, दीमक और ततैया भी इसी तरह समूह में कार्य करते हैं l
  • अक्टूबर से दिसंबर तक का समय मधुमक्खियों के अंडे देने का होता है अतः यह समय मधुमक्खी के पालन के लिए उचित समय माना जाता है l
  • गोवा से केरल के रेल रास्ते में 92 सुरंग और 2000 पुल पड़ते हैं l
  • मलयालम में ‘ वालीयम्मा ‘ मां की बड़ी बहन को और ‘ अम्मूमा ‘ नानी को कहते हैं l
  • गांधीधाम अहमदाबाद में और वलसाड गुजरात में तथा कोझीकड केरल में स्थित है
  • कर्णम मल्लेश्वरी एक वेटलिफ्टर है l यह आंध्र प्रदेश की रहने वाली है l यह 130 किलोग्राम वजन उठाती है l और भारत के बाहर 29 मेडल जीत चुकी है l
  • उत्तर प्रदेश में, कचनार के फूलों से, केरल में केले के फूलों से और महाराष्ट्र में सहजन के फूलों से सब्जी बनाई जाती है l
  • गुलदावरी और जीनिया के फूलों से रंग बनते हैं जिससे कपड़े रंगे जाते हैं l
  • बिहार में मधुबनी नाम का एक जिला है l वहां पर त्योहारों के दिन घर की दीवारों पर चित्र बनाए जाते हैं l यह चित्र पिसे हुए चावल में रंग घोलकर बनाए जाते हैं l
  • उत्तर प्रदेश का कन्नौज जिला इत्र के लिए मशहूर हैl
  • मिट्टी में गोबर मिलाकर जमीन पर लिपाई करने से मिट्टी में कीड़ा नहीं लगता l तथा कीट पतंग दूर रहते हैं l
  • नीम और कीकर की लकड़ी ऊपर दीमक नहीं लगते तथा इनका प्रयोग फर्नीचर आदि बनाने में किया जाता है l
  • गाजीखान यह स्थान पाकिस्तान में स्थित है l सोहना गांव हरियाणा में स्थित है, जबकि ‘ वेलबनी’का गांव कर्नाटक में स्थित है l
  • विजू भाई बधेका एक लेखक है, जो कि गुजरात से संबंधित है l वह बच्चों की स्तर की मजेदार कहानियां वह पत्र लिखते थे l
  • कल चिड़ी ( इंडियन रोबिन ) पत्थरों के बीच घोंसला बनाती है l घोसला घास से बना होता है l और इसके ऊपर पौधों की नाजुक टहनी, जड़े, उन और बाल रहता है l
  • कौवा के घोसले में लोहे की तार और लकड़ी की शाखाएं जैसी चीज पाई जाती है l
  • कोयल अपना घोंसला नहीं बनाती है कव्वे की घोसले में अंडा देती है l
  • ‘ फाख्ता ‘ कैक्टस के काटो के बेच या मेंहदी की मेढ़ में घोंसला बनती हैं l
  • गौरय्या कहीं भी घोंसला बना लेती हैं – अलमारी के ऊपर, आईने के पीछे आदि l कबूतर भी ऐसे ही अपना घोंसला बनाते हैं l
  • बसंत गौरी पेड़ के तने में छेद बनाकर उसमे अंडे रखती हैं l
  • दर्जिन चिड़िया, अपनी नुकीले चोंच से पत्तों को सी लेती he और उसके बीच की बनी थैली को अंडे देने के लिए तैयारी करती हैं l
  • शक़्कर खोरा किसी छोटे पेड़ या झाी की डाली पर अपना लटकता घोंसला बनाते हैं l
  • घोंसला बाल, रुई, पेड़ की छाल, कपड़ो के टुकड़ो आदि से बना होता हैं l
  • ‘ वीवर ‘ पक्षिओ मे सभी नर वीवर अपने अपने घोसले बनाते हैं l मादा वीवर उन सभी घोसलो को देखती हैं, उनमे से जो अच्छा लगता हैं l उसमे ही वह अंडे देती हैं l
  • गाय के आगे के दाँत छोटे होते हैं, पत्ते को काटने के लिए, घास चबाने के लिए पीछे के दाँत चपटे होते हैं l
  • बिल्ली के दाँत नुकीले होते हैं, जो मांस फाड़ने ke kaam आते हैं l
  • सांप के दांत होते तो नुकीले हैं, पर वह अपने शिकार को चबाता नहीं हैं, बल्कि निगल जाता हैं l
  • गिलहरी के दाँत हमेशा बढ़ते रहते हैं, दांतो से काटना और कुतरने के कारण उनके दाँत घिसते रहते हैं l
  • नल्लमडा, आंध्रप्रदेश में हैं l बाजार गांव, महाराष्ट्र में हैं l
  • कफ परेड, मुंबई मे एक जगह का नाम हैं
  • ऑस्ट्रेलिया में एक पेड़ पाया जाता हैं, ‘ रेगिस्तानी – ओक ‘ यह बहुत लम्बा होता हैं और इसके तने के अंदर पानी रहता हैं l
  • बिहू, यह त्योहार, असम me चावल की फसल कटने पर मनाया जाता हैं l
  • इस त्योहार पर बिहू नृत्य भी होता हैं l
  • बोरा और चेवा चावल के दो प्रकार है जो असम में खाया जाता है l
  • मुक्तापुर ‘ गांव आंध्र प्रदेश के पोचमपल्ली जिले में स्थित हैं l
  • पोचमपल्ली जिले में ज्यादातर परिवार बुनकर है l इस बुराई को पोचमपल्ली नाम से भी जाना जाता है l
  • मलयालम में ‘चिटप्पन ‘ चाचा को और ‘ कुजन्म्मा ‘ चाची को कहते हैं l
  • अबू धाबी में रुपए को दिरहम बोलते हैंl
  • चीटियां सूंघकर एक दूसरे के पीछे चलती है l मच्छर हमारे पैरों के तलवे की गंध और हमारे शरीर की गर्मी से हमें ढूंढ लेते हैं l
  • सांप के बाहरी कान नहीं होते जमीन पर हुए कंपन को वह महसूस कर पाते हैं l
  • टाइगर अंधेरे में हम से 6 गुना बेहतर देख सकता है l टाइगर कि मूछे हवा में हुए कंपन को भाप लेती है l
  • टाइगर का गुर्राना ( Roaring ) 3 किलोमीटर दूर तक भी सुना जा सकता है l
  • जानवर हर चीज को सफेद और काली ही देख पाते हैं l
  • ‘ स्लॉथ ‘:- यह भालू जैसा दिखता है l यह दिन में करीब 17 घंटे पेड़ों से उल्टा लटक कर सोता है l
  • स्लॉथ जिस पेड़ पर रहते हैं उसी पेड़ के पत्ते खाकर जीवन व्यापन करते हैं l
  • जब वे अपने पेड़ क सभी पत्ते खा लेते हैं तब वे पास के दूसरे पेड़ पर जाते हैं l
  • स्लॉथ अपनी पूरी जिंदगी (जो कि 40 वर्ष की होती है ) मुश्किल से 8 पेड़ों पर ही घूम पाते हैं l
  • उत्तराखंड का जिम कार्बेट नेशनल पार्क और राजस्थान के भरतपुर जिले में घना पक्षी विहार इन जगहों पर शिकार करना वर्जित है l
  • सपेरों की जाति को कालबेलिया कहा जाता है l
  • नाग गुंफन यह रंगोली दीवारों को सजाने के लिए सौराष्ट्र, गुजरात और दक्षिण भारत में प्रयोग की जाती है l
  • हमारे देश में पाए जाने वाले सांपो में केवल चार प्रकार के ही सांप जहरीले होते हैं :- नाग, करैत , दुबोइया तथा अफई आदि
  • सांप जब काटता है तो दो खोखले जहर वाले दांतो से उस व्यक्ति के शरीर में जहर चला जाता है l उस व्यक्ति को तुरंत जहर के असर को कम करने वाली दवाई ( यानी सीरम ) दी जाती है l यह दवाई (सिरम) सांप के जहर से ही बनाई जाती है l
  • ‘ नेपेंथिस ‘ यह पौधा ऑस्ट्रेलिया, इंडोनेशिया और भारत के मेघालय राज्य में पाया जाता है l यह पौधा कीड़े मकोड़े और छोटे जीवो को शिकार करता है ताकि अपनी नाइट्रोजन की आवश्यकता को पूरा कर सकें l
  • स्विट्जरलैंड के जॉर्ज मैस्टर्ल ने 1948 में वेल्क्रो बनाया था l
  • मैस्टर्ल का प्रयोग जूतों व सैंडल पर चिपकाने हेतु किया जाता है l
  • मिर्ची को पुर्तगाल देश के व्यापारी दक्षिण अमेरिका से भारत लाए थे l
  • भिंडी अफ्रीका से तथा यूरोप से गोभी और मटर, तथा चीन से सोयाबीन लाई गई थी l
  • अल बिरूनी उज्बेकिस्तान से भारत आया था l
  • घडसीसर यह तालाब जैसलमेर के राजा ( घड़सी ) जी ने बनवाया था l
  • मृत सागर ( DEATH SEA) दुनिया का सबसे नमकीन सागर है l लगभग 1 लीटर पानी में 300 ग्राम नमक पाया जाता है l
  • सिनकोना पेड़ की छाल से मलेरिया की दवाई बनाई जाती है l पहले तो लोग छाल को उबाल कर इस्तेमाल करते थे l
  • एनीमिया यह रोग हीमोग्लोबिन या आयरन की कमी से होता है l इस रोग के उपचार हेतु गुड़, आंवला और हरी पत्तेदार सब्जियां जरूर खाना चाहिए l
  • रोनाल्डो रोश ने बताया कि मलेरिया मच्छर से फैलता है l यह भारतीय मूल के वैज्ञानिक थे l
  • मिजोरम राज्य में ( यह भारत का उत्तर पूर्वी राज्य है ) में मिज़ो भाषा बोली जाती है l
  • बछेंद्री पाल पहली भारतीय महिला थी, जो माउंट एवरेस्ट पर चढ़ी थी l संसार की पांचवी महिला बन गई थी जो माउंट एवरेस्ट पर चढ़ी थी l माउंट एवरेस्ट की ऊंचाई 8848 मीटर है l माउंट एवरेस्ट विश्व की सबसे ऊंची चोटी है जो कि हिमालय नेपाल में स्थित है नेपाल में इसे सागर माथा के नाम से जाना जाता हैं l
  • बछेंद्री पाल ने 23 मई 1984 को 1:07 पर माउंट एवरेस्ट पर पर चढ़कर यह कीर्तिमान हासिल किया थाl
  • गोलकुंडा के किले में सन 1518 से 1687 तक यहां कुतुब शाही सुल्तानों ने एक के बाद एक राज किया थाl
  • ‘ हाउ वी फाउंड द अर्थ इज राउंड ‘ यह पुस्तक लोंगमैन लिखी है l इस पुस्तक में बताया गया है कि सदियों से अलग-अलग संस्कृतियों में इंसानों ने पृथ्वी के बारे में क्या क्या सोचा है l
  • नील आर्मस्ट्रांग चांद पर उतरने वाले पहले व्यक्ति थे वह चांद पर 1969 में गए थे l
  • लेह – लद्दाख में घर की निचली मंजिल पर खिड़की नहीं होती l इसलिए छत बनाने के लिए पेड़ों के मोटे तने इस्तेमाल किए जाते हैं l
  • एक पशमीना शाल में छह स्वेटर के बराबर गर्मी होती है यह एक पहाड़ी बकरी की खास नस्ल ( मैरिनो ) के बालों से बनाई जाती है जो लगभग 5000 मीटर की ऊंचाई पर रह सकती है l एक पशमीना शॉल को बनाने में 250 घंटों का समय लगता है l
  • जमीन उपजाऊ बनती है :- जड़ों से, पत्तों से, शाखाओं के सड़ने से केंचुओ से l
  • केंचुए जमीन में छेद बना कर रहते हैं l जिसमें जमीन पॉली ( खोखली ) हो जाती है l
  • झूम खेती ‘ एक फसल कटने के बाद जमीन को कुछ समय के लिए खाली छोड़ देते हैं उस पर खेती नहीं करते l
  • इस खाली जगह पर जो वृक्ष जैसे बांस व अन्य पौधे उग जाते हैं l उसे उखाड़ने नहीं है बल्कि उसे गिरा कर जला देते हैं यह रात खाद का काम करती है l
  • चराओ नाच ‘ यह नाच मिजोरम मैं होता है यह नाच फसल कटने पर किया जाता है l
  • ऑस्ट्रिया में रहने वाले ग्रेगर मेंडल का जन्म 1882 में हुआ था l
  • ग्रेगर मेंडल ने अनुवांशिकी की खोज की थी मटर के पौधों में कुछ ऐसे गुण होते हैं l जैसे जोड़ियों में में आना, बीज का चिकना पान, या खुदरा होना पीला या हरा होना आदि l
  • पोलियो जीवाणु से फैलने वाला रोग है lयह जन्मजात नहीं होता l
  • यह आर्टिकल एनसीईआरटी कक्षा 3, 4 व 5 के पुस्तकों से बनाया गया है l यह आर्टिकल सीबीएसई द्वारा आयोजित सीटेट परीक्षा मैं महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेगा अतः हमें आशा है कि आप सभी को इससे लाभ जरूर होगा l और अधिक स्टडी मैटेरियल प्राप्त करने के लिए आप रेगुलर www.ctetpoint.com पर विजिट करते रहिए l