सहभागी शिक्षण

सहभागी शिक्षण सहभागी शिक्षण क्या है? सहभागी शिक्षण की आवश्यकता, सहभागी शिक्षण का अर्थ, सहभागी शिक्षण इन हिंदी प्राचीन काल से ही शिक्षा में शिक्षण प्रक्रिया का संबंध दो पक्षों से रहा है। इसमें प्रथम पक्ष शिक्षा प्रदान करने वाला होता है जिसे गुरु के नाम से जानते हैं। वर्तमान में उसको शिक्षक के नाम …

सहभागी शिक्षण Read More »

बहुकक्षा शिक्षण

बहुकक्षा शिक्षण वर्तमान समय में प्राथमिक शिक्षा के क्षेत्र में निरंतर जनसंख्या वृद्धि के कारण विद्यालयों में छात्र संख्या तो निरंतर तेजी से बढ़ रही है परंतु उस अनुपात में शिक्षकों की संख्या अभी भी बहुत कम है। अनेक विद्यालय ऐसे हैं जहां एक ही अध्यापक कक्षा एक से पांच तक के बच्चों को पढ़ा …

बहुकक्षा शिक्षण Read More »

विकलांग बच्चों की राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2006

विकलांग बच्चों की राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2006 (National Education Policy For Person with Disability -2006) यह नीति 10 फरवरी 2006 से लागू की गई है। इसको सामाजिक न्याय एवं सशक्तिकरण मंत्रालय (Ministry of Social Justice and Empowerment ) बनाता है। वह स्कूलों में लागू करता है। मानव संसाधन विकास मंत्रालय एक सहायक एजेंसी की भूमिका …

विकलांग बच्चों की राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2006 Read More »

एडीएचडी (ध्यानाभाव एवं अतिसक्रियता विकार) – ADHD in Hindi

ध्यानाभाव एवं अतिसक्रियता विकार (ADHD) क्या है? ध्यान अभाव अति क्रियाशीलता विकृति || Attention Deficit Hyperactivity Disorder || ADHD) || एडीएचडी || ध्यानाभाव एवं अतिसक्रियता विकार || इसे सामान्य भाषा में ADHD कहते हैं। इन बच्चों मै आवेगो के नियंत्रण की समस्या होती है। इनका ध्यान केंद्रित नहीं हो पाता। इस कारण कक्षा में अनुशासनहीनता …

एडीएचडी (ध्यानाभाव एवं अतिसक्रियता विकार) – ADHD in Hindi Read More »

जीवन कौशल प्रबंधन एवं अभिवृत्ति पार्ट – 1

जीवन कौशल प्रबंधन एवं अभिवृत्ति पार्ट – 1 प्रश्न 1:- भारत में व्यवसायिक शिक्षा कब शुरू हुई?(A) 1986 ईस्वी में(B) 1987 ईस्वी में(C) 1990 ईस्वी में(D) 1985 ईस्वी मेंउत्तर :- भारत व्यवसायिक शिक्षा की शुरुआत 1986 ईस्वी से मानी जाती है। प्रश्न 2 :- अभिप्रेरणा और अधिगम के बारे में निम्नलिखित में से कौन-सा एक …

जीवन कौशल प्रबंधन एवं अभिवृत्ति पार्ट – 1 Read More »

कार्यशाला प्रविधि (Workshop Technique)

कार्यशाला प्रविधि (Workshop Technique) क्या होती है? कार्यशाला क्या है ? कार्यशाला एक निश्चित विषय पर परिचर्चा का प्रायोगिक कार्य होता है। जिसमें सभी प्रतिभागी सदस्य अपने ज्ञान अनुभवों व कौशलों के पारस्परिक आदान-प्रदान के द्वारा विषय के बारे में सीखते हैं। शिक्षक अपने शिक्षण में सफलता पाने के लिए विभिन्न विधियों / प्रविधियों का …

कार्यशाला प्रविधि (Workshop Technique) Read More »

अनौपचारिक शिक्षा (Imformal Education)

अनौपचारिक शिक्षा अनौपचारिक शिक्षा व्यवहारिक होती है। यह शिक्षा बिना किसी नियम अथवा बिना किसी विधि के प्राप्त होती है। बालक जन्म काल से ही इस शिक्षा को जीवन की विभिन्न परिस्थितियों से प्राप्त करता चलता है। यह शिक्षा अनुभवों से प्राप्त होती है। उदाहरण के लिए बच्चा जन्म लेने के पश्चात माता के गोद …

अनौपचारिक शिक्षा (Imformal Education) Read More »

माइंड मैपिंग (Mind Mapping)

माइंड मैपिंग क्या है? What is Mind Mapping? मस्तिष्क चित्रण, Mind Map, माइंड मैप विशेषज्ञों के अनुसार मनुष्य की शॉर्ट टर्म मेमरी सिर्फ 7 बिट्स जानकारी याद रख सकती है यानी तीस दिनों की कुल पढ़ाई का सिर्फ 20 फीसदी ही हमें याद रह सकता है। अगर हम पढ़े हुए का रिवीजन ना करे तो …

माइंड मैपिंग (Mind Mapping) Read More »

खोज विधि (Discovery Method)

खोज विधि क्या है ? Discovery Method , खोजविधि के जन्मदाता कौन है ? Father of Discovery Method, खोज विधि के जन्मदाता जे.एस. ब्रूनेट हैं। यह इतिहास पढ़ाने की एक प्रभावशाली विधि है । शिक्षक छात्रों को ऐतिहासिक स्थलों के विषय में स्वयं नई-नई जानकारियां खोजने के लिए प्रेरित करता है। इस विधि के अंतर्गत …

खोज विधि (Discovery Method) Read More »

बहुस्तरीय शिक्षण का अर्थ

बहुस्तरीय शिक्षण का अर्थ :- विभिन्न उपलब्धि स्तर वाले बच्चों को कुशलतापूर्वक पढ़ाने की योजनाबद्ध प्रक्रिया बहु स्तरीय शिक्षण कहलाती है। मानसिक स्तरीय शिक्षण ही बहुस्तरीय शिक्षण कहलाता है। एक ही कक्षा में अलग अलग तरीके से व अलग-अलग गति से सीखने वाले छात्र होते हैं। जब एक ही शिक्षक एक ही समय में कक्षा …

बहुस्तरीय शिक्षण का अर्थ Read More »