अधिगम अक्षमता क्या होती है ? अर्थ-परिभाषा

अधिगम अक्षमता अर्थ विशेषताएं एवं वर्गीकरण तथा अधिगम अक्षमता क्या होती है ? , अधिगम असमर्थता,

अधिगम असमर्थता या अधिगम अक्षमता क्या होती है? (Concept of Learning Disability) :-

इस आर्टिकल में हम निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर ढूंढने का प्रयास करेंगे:-
अधिगम असमर्थता के प्रकार एवं कारण? अधिगम असमर्थता अर्थ विशेषता एवं वर्गीकरण? अधिगम असमर्थता के कारण बताइए? अक्षमता की परिभाषा? अधिगम असमर्थता का अर्थ परिभाषा एवं विशेषता? विकलांगता के प्रकार अध्ययन? अक्षमता के प्रकार अक्षमता क्या होती है? धीमी गति सीखने वाले बालकों के प्रकार ? धीमी गति से सीखने वाले के कारण ? लर्निंग डिसेबिलिटी ? गामक अक्षमता के प्रकार ? अफेज्या क्या है?

अधिगम अक्षमता का अर्थ:-

अधिगम अक्षमता शब्द देखने व पढ़ने में एक शब्द लगता है । परंतु यह 2 शब्दों के योग से बना है (अधिगम+अक्षमता)। अधिगम का अर्थ सीखने से होता है तथा अक्षमता का अर्थ क्षमता के अभाव या क्षमता की अनुपस्थिति से होता है।

आसान शब्दों में हम कह सकते हैं कि अधिगम असमर्थता या अधिगम अक्षमता का अर्थ सीखने की क्षमता अथवा योग्यता की कमियां अनुपस्थिति से होता है । औपचारिक शब्दों में अधिगम असमर्थता को विद्यालय पाठ्यक्रम सीखने की क्षमता जाने सीखने की क्षमता में कमी या अनुपस्थिति के रूप में परिभाषित किया जाता है।

अधिगम अक्षमता शब्द का सबसे पहले प्रयोग किसने किया था। अधिगम अक्षमता शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग 1963 ई. में सैमुअल किर्क द्वारा किया गया था और इसे निम्न शब्दों में परिभषित किया था।

अधिगम असमर्थता या अधिगम अक्षमता की परिभाषाएं:-
अधिगम अक्षमता को वाक्, भाषा, पठन, लेखन अंकगणितीय प्रक्रियाओं में से किसी एक या अधिक प्रक्रियाओं में मंदता, विकृति अथवा अवरूद्ध विकास के रूप में परिभाषित किया जा सकता हैं ।

यह संभवता: मस्तिष्क कार्यविरूपता और या संवेगात्मक अथवा व्यवाहरिक विक्षोभ का परिणाम है न कि मानसिक मंदता, संवेदी अक्षमता अथवा संस्कृतिक अनुदेशन कारक का। (किर्क, 1963)

इसके पश्चात् से अधिगम अक्षमता को परिभाषित करने के लिए विद्वानों द्वारा निरंतर प्रयास किये किए गए लेकिन कोई सर्वमान्य परिभाषा विकसित नहीं हो पाई।

अधिगम असमर्थ बच्चे बुद्धिलब्धि में औसत से अधिक हो सकते है । अतः मानसिक बुद्धिमता का अधिगम असमर्थता से कोई संबंध नहीं है।


अमेरिका में विकसित फेडरल परिभाषा के अनुसार, विशिष्ट अधिगम अक्षमता को, लिखित एवं मौखिक भाषा के प्रयोग एवं समझने में शामिल एक या अधिक मूल मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया में विकृति, जो व्यक्ति के सोच, वाक्, पठन, लेखन, एवं अंकगणितीय गणना को पूर्ण या आंशिक रूप में प्रभावित करता है, के रूप में परिभाषित किया जा सकता है।

इसके अंतर्गत इन्द्रियजनित विकलांगता, मस्तिष्क क्षति, अल्पतम असामान्य दिमागी, प्रक्रिया, डिस्लेक्सिया, एवं विकासात्मक वाच्चाघात आदि शामिल है। इसके अंतर्गत वैसे बालक नहीं सम्मिलित किए जाते हैं, जो दृष्टि, श्रवण या गामक विकलांगता, संवेगात्मक विक्षोभ, मानसिक मंदता, संस्कृतिक या आर्थिक दोष के परिणामत: अधिगम संबंधी समस्या से पीड़ित है। (फेडरल रजिस्टर, 1977.


उपर्युक्त परिभाषाओं की समीक्षा के आधार पर यह कहा जा सकता है कि अधिगम अक्षमता एक व्यापक संप्रत्यय है, जिसके अंर्तगत वाक्, भाषा, पठन, लेखन, एवं अंकगणितीय प्रक्रियाओं में से एक या अधिक के प्रयोग में शामिल एक या अधिक मूल मनोवैज्ञानिक प्रक्रिया में विकृति को शामिल किया जाता है, जो अनुमानत: केन्द्रीय तंत्रिका तंत्र के सुचारू रूप से नहीं कार्य करने के कारण उत्पन्न होता है। यह स्वभाव से आंतरिक होता

2 thoughts on “अधिगम अक्षमता क्या होती है ? अर्थ-परिभाषा”

  1. Pingback: असमर्थता और अक्षमता की अवधारणा - CTETPoint

  2. Pingback: अधिगम अक्षमता , अधिगम अशक्तता, अधिगम विकार , (Learning Disabilty) - CTETPoint

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *